ये जहां...

अंतहीन शुरुआत

11 Posts

28 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 9890 postid : 29

कभी हम, कभी तुम

Posted On: 14 Jun, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कभी टकराना मुसीबतों से,
तो पता चलेगी सच्चाई ज़िंदगी की ।।
कभी खरीदना किसी के ग़म,
तो पता चलेगा खुशी का वहम ।।
कभी तोड़ देना बंदिशों को,
तो पता चलेगा आज़ादी का भरम।।
कभी सोचना गहराइयों से,
तो पता चलेगा हर झूठ का हरम।।
कभी सोचना किसी चोट के बारे में,
तो पता चलेगा असर-ए-मरहम ।।
कभी हम कभी तुम पर सोचना,
क्या आसान है ज़िंदगी ।।
कभी टटोलना वादों का गड्ढा,
तो पता चलेगा वादाखिलाफी का मीटर।।
कभी महसूस करना कर्म के असल को,
तो पता चलेगा ज़िंदगी का मुनाफा ।।
कभी खेलना किसी मज़लूम ज़िंदगी से,
तो पता चलेगी किसी जान की कीमत।।
कभी कूच करना पहाड़ियों का,
तो पता चलेंगी बुलंदियां सरहद की।।
कभी जाना तिब्बत और सियाचीन में,
तो पता चलेगा सियासत का फलसफा।।
कभी गुज़र जाना आंधी तूफानों से,
तो पता चलेगी उखड़ते कदमों की कुब्बत।।
कभी गंदी बस्ती से गुज़र भी जाना,
तो पता चलेगी हर दुर्गंध की कीमत ।।
कभी हम कभी तुम पर सोचना,
क्या आसान है ज़िंदगी ।।
कभी मुस्कुराना गम-ए-महफिल,
तो पता चलेगी सुखों की ताकत।।
कभी करना ठिठोलियां रंजिश में,
तो पता चलेगी हंसी की कीमत ।।
कभी गुज़रना बदनाम गलियों से,
तो पता चलेगी कौड़ी-ए-ईमान की कीमत।।
कभी सिसक लेना अंधेरी रातों में,
तो पता चलेगी एक साथ की कीमत।।
कभी टूट जाना किसी कांच सी,
तो पता चलेगी आईना होने की कीमत।।
कभी हम कभी तुम पर सोचना,
क्या आसान है ज़िंदगी ।।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

pritish1 के द्वारा
June 16, 2012

आपके लेखनसे प्रभावित हूँ……. मेरे नवीनतम ब्लॉग मैं आपका स्वागत है……..मेरी कहानियां ऐसी ये कैसे तमन्ना है..१ और ऐसी ये कैसे तमन्ना है…..२ का आनंद लें………..अपने विचारों से मुझे अवगत करायें आपके सुझावों की प्रतीक्षा में……….


topic of the week



latest from jagran